कश्मीर में अय्याशी कर कश्मीरी लड़कियों की ज़िन्दगी ख़राब कर रहे पाकिस्तानी आतंकीजम्मू कश्मीर में अय्याश आतंकी पार्ट 2

12 Oct 2017 11:50:27


 

Shubham upadhyay

हाल ही में सुरक्षाकर्मियों से चले मुठभेड़ में जैश के अय्याश आतंकी खालिद महमूद को जवानों ने मार गिराया है। खालिद लगातार जम्मू कश्मीर की लड़कियों का शोषण करता था और आतंक का इस्तेमाल अपने निजी हितों को साधने के लिए करता था, जिसकी मौत का कारण भी यही था। दरअसल उसकी पुरानी प्रेमिका ने बदले के लिए उसकी सूचना सुरक्षाबलों तक पहुँचाई थी। हम लगातार यह बताने की कोशिश कर रहें हैं कि किस तरह आतंक के नाम पर आतंकवादी कश्मीरी लड़कियों की जिंदगी को ख़राब कर रहें हैं, किस तरह आम नाबालिग और कम उम्र की लड़कियों का आतंकी अपने फायदे के लिए इस्तेमाल कर रहें हैं।

 

खालिद से पहले भी मर चुका है ये अय्याश आतंकी :

 

अभी कुछ महीनों पहले लश्कर के टॉप आतंकी अबु दुजाना को सुरक्षा बलों ने ढेर किया था। जम्मू कश्मीर के पुलवामा क्षेत्र में चले मुठभेड़ में उसका एनकाउंटर किया गया था। खालिद महमूद की ही तरह अबु दुजाना भी पाकिस्तानी आतंकी था। अबु दुजाना की मौत के सुरक्षा बलों के लिए बड़ी सफलता थी। अबु दुजाना के साथ इस गोलीबारी में स्थानीय आतंकी आरिफ लालिहारि मारा गया था।

 

सेना पर हुए आतंकी हमलों में शामिल था दुजाना :

 

दुजाना सेना पर हुए कई हमलों में शामिल था। उसपर सेना ने 15 लाख का इनाम रखा हुआ था। पिछले 5 बार से वो जवानों को चकमा देने में कामयाब रहा था, लेकिन आखिरी बार में सुरक्षा बलों ने उसे ऐसा घेरा कि उसे भागने का कोई मौका ही नहीं मिला। पंपोर में हुए सेना पर हमले का मास्टरमाइंड भी अबु दुजाना ही था।

 



 कश्मीरी लड़कियों के लिए खतरा था अबु दुजाना :

पाकिस्तान से पोषित इन आतंकी संगठनों में शामिल होने वाले आतंकी पैसे और हथियार के साथ साथ अपनी शारीरिक जरूरतों को पूरा करने के लिए कश्मीरी लड़कियों का इस्तेमाल करते हैं। क्षेत्र के आईजी के मुताबिक़ अबु दुजाना वहाँ के लड़कियों के लिए खतरा बन चुका था। स्थानीय घरों की महिलाएं और लड़कियां घरों से निकलने में भी घबराती थी। कभी बंदूक के नोक पर तो कभी अपनी जाल में फंसाकर अबु दुजाना कश्मीरी लड़कियों का शोषण करता था। कुछ महिलाओं और लड़कियों के साथ उसने जबरदस्ती भी की थी।

 

एक पत्नी के आलावा कई महिलाओं के साथ थे दुजाना के संबंध :

 

अबु दुजाना वैसे तो 7 साल से घाटी में सक्रिय था और सेना के A++ कैटेगरी का आतंकी था। लेकिन पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार अबु दुजाना आतंकी गतिविधियों से ज्यादा अय्याशी में लिप्त रहता था। यह कोई नई बात नहीं है कि जम्मू कश्मीर के आतंकी सिर्फ अय्याशी और लड़कियों से संबंध बनाने के लिए आतंकी संगठनो में शामिल होते हैं। लेकिन अबु दुजाना के कई महिलाओं के साथ सम्बन्ध की बातें भी सामने आई है। एक स्थानीय कश्मीरी महिला से उसकी शादी भी हुई है, संभवतः जिससे ही मिलने के लिए ही दुजाना आया था उसी दौरान सुरक्षाबलों ने उसे ढेर किया।

 

पाकिस्तानी आतंकी लगातार आतंक का इस्तेमाल लगातार कश्मीरी लड़कियों के शोषण के लिए कर रहें हैं :

 

चाहे वो अबु दुजाना हो या पाकिस्तानी आतंकी खालिद महमूद, वो लगातार कश्मीरी लड़कियों का शोषण कर रहें हैं। जो अलगाववादी नेता कश्मीर की आज़ादी को लेकर आम कश्मीरियों को गुमराह करते हैं, पाकिस्तान की जी हुजूरी करते हैं, वही पाकिस्तान अपने आतंकियों को भेजकर उन्हीं आम कश्मीरियों के बहन-बेटियों की ज़िन्दगी बर्बाद करते हैं। कश्मीरी लड़कियों का शोषण करने वाले आतंकियों को कुछ अलगाववादी नेता अपना हीरो मानते हैं, क्या उन्हें कश्मीरी बच्चियों के दर्द नहीं दिखते ? कुछ स्थानीय राजनेता भी कश्मीरी लड़कियों की बर्बाद होती ज़िन्दगी को अनदेखा कर कुछ लोगो के बीच अपनी राजनीति चमकाने के लिए आतंकियों के लिए सांत्वना प्रकट करते रहते हैं।

 

अय्याश आतंकियों के खिलाफ कश्मीर की लड़कियां एकजुट हो रही है, अब देश भी एकजुट होगा :

 

जैसा कि खालिद वाले मामले में हमने देखा कि उसकी पूर्व प्रेमिका ने ही बदले की भावना के साथ सुरक्षाकर्मियों को खालिद की जानकारी दी और खालिद मारा गया। वैसे ही अबु दुजाना की मौत और सेना द्वारा चलाये जा रहे लगातार अभियानों के बाद कश्मीरी लड़कियों का मनोबल जो पिछले कई समय से गिरा हुआ था वो अब उठ रहा है। कश्मीरी लड़कियां अब अपने विरूद्ध हो रहे शोषण को समझ रही है। आतंकियों द्वारा लगातार कश्मीरी लड़कियों के इस्तेमाल करने और प्रताड़ित करने को लेकर अब कश्मीर की लड़कियां जागरूक हो चुकी है। सड़क से लेकर सोशल मीडिया तक कश्मीरी लड़कियों ने आतंकियों के खिलाफ मोर्चा खोल लिया है। लेकिन जिस तरह दिल्ली, मुम्बई और देश के अन्य क्षेत्र में किसी लड़की के साथ हुए अनैतिक कृत्य के लिए पूरा देश एक होता है, अब समय आ चुका है कि हम कश्मीर की लड़कियों के लिए भी एकजुट हों। आतंक से पीड़ित ही नहीं आतंकियों के शोषण से पीड़ित लड़कियों के साथ कदम से कदम मिलाकर खड़ें हों।

 

हम लगातार आपको आतंकियों द्वारा कश्मीर में हो रहे लड़कियों और महिलाओं के शोषण के बारे में बता रहें हैं और आगे भी बतायेंगे। क्योंकि जम्मू कश्मीर हमारी धरती है, कश्मीरियों की जमीन है, इसमें किसी आतंकी का कोई हक़ नहीं है। यह जमीन कश्मीरी लड़कियों की है जो पूरी तरह से आज़ाद हैं, और अगर उन्हें किसी चीज से आज़ादी दिलानी ही है तो इन पाकिस्तान पोषित आतंकियों से दिलाने की जरुरत है।

 

जम्मू कश्मीर में अय्याश आतंकी पार्ट 1

 

 

 

JKN Twitter