आतंकियों और उनके आकाओं के लिए क़यामत का महीना साबित हो रहा है नवम्बर !

22 Nov 2017 18:42:57


अंकित शर्मा

जहां एक ओर सुरक्षा बलों की जवाबी कार्रवाई ने इस नवम्बर के  महीने में 26 से ज्यादा आतंकियों को मार गिराया है। वहीं दूसरी तरफ झूठ बोल कर आतंकी बनाये गए नौजवान अब अपनों की अपील पर अपने घरों की ओर वापस आना शुरू कर दिया है। जिसने  आतंक के आकाओं की हालत ख़राब कर दिया है। बीते कुछ ही दिनों में घाटी कई घटनाओं ने पाकिस्तान में बैठे आतंकियों को मुँह तोड़ जवाब दिया है।  

 माजिद खान, निसार जैसे नौजवानों ने आतंक की राह छोड़ कर मुख्यधारा में फिर से शामिल ।

 

कौन है माजिद खान? 

घाटी में अनंतनाग के रहने वाले उभरते हुए युवा फुटबॉलर और बीकॉम में पढ़ने वाले माजिद खान को आतंकियों ने अपने साथ जोड़ लिया था।  माजिद कुछ ही दिनों पहले लश्कर-ए-तैयबा में शामिल हुआ था । राष्ट्रीय राइफल्स को जैसे पता चला की माजिद को बरगला कर आतंक की तरफ ले जाया गया है।  उसके तुरंत बाद सेना ने उसके माता पिता को यह बात बताई की उनका बेटा आतंकी राह पर निकल चुका है। इसके बाद तो मानो पूरे परिवार पर कयामत सी छा गयी। पिता सदमे में चले गए माँ बहन का रो- रो कर के बुरा हाल हो गया था। लेकिन उसकी माँ ने कहा किसी पर गोली चलाने से पहले अपनी माँ पर गोली चलाना ।

इसके बाद तो मानो माजिद को फिर से मुख्यधारा से जोड़ने के लिए उसके दोस्तों ने सोशल मीडिया पर अभियान ही चला दिया । माजिद के दोस्तों ने छोटी-छोटी कई वीडियो बनाई जिसमें माजिद की माँ और पिता को दिखाया गया था। पूरे वीडियो में उसके माँ के आँसु और पिता की हालत दिखाई जो वीडियो जम्मू कश्मीर में खूब वायरल हुई इस वीडियो को देखने के बाद माजिद खान ने भी आतंक की रह छोड़ कर सुरक्षा बलों के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। इस एक छोटी सी घटना ने पाकिस्तान में बैठे लोगो को ना केवल घाटी की असलियत दिखा दी बल्कि यही भी बता दिया है की घाटी का युवा अब उनके बहकावे में नहीं आने वाला है।  

 

माजिद खान के अलावा कुछ और नौजवान देश की मुख्यधारा में लौटे है। उनमे से एक है निसार जो अपने परिवार की अपील पर फिर से मुख्यधारा में हैं। निसार  दक्षिण कश्मीर का रहने वाला है निसार इस साल सितंबर के अंतिम सप्ताह में आतंकवादी संगठन शामिल हो गए था।  

घाटी में बीते समय में इस तरह के कई वीडियो सामने आये है, जिनमे आतंकी के परिवार वाले उन्हें हथियार छोड़ कर देश की मुख्यधारा से जुड़ने की अपील करते नजर आ रहे है ।

सेना के अधिकारियो ने कहा है की आतंकियों का साथ छोड़ कर देश की मुख्यधारा में वापस लौटे लोगों के साथ ना केवल  उचित व्यवहार किया जाऐगा साथ ही साथ समाज में वह फिर से अपना सम्मान वापस पा सके इसका भी प्रयास किया जाएगा।  सेना और पुलिस के लोगो ने फिर से एक बार अपील की जिनके परिवार वाले  आतंकी रहा पे भटक गए है उनके परिवार वाले उन्हें मुख्यधारा में लाने का प्रयास करें।  

 

 

 

JKN Twitter