काश्मीर में आतंक और अलगावादी समस्या की जड़ आईएसआई परस्त मिडिया

29 May 2017 14:37:58

जम्मू काश्मीर में ​कई मीडिया समूह स्वतंत्र पत्रकारिता के नाम पर देश विरोधी गतिविधियों और अलगावादी मानसिकता को निरंतर समर्थन कर रहे है, उनकी रिपोर्ट में हर बार आतंक को धर्म और अतंकवादियों को हीरो के रूप में पेश किया जाता रहा है। कुछ मिडिया ग्रुप जैसे राइसिंग काश्मीर, काश्मीर मीडिया सर्विस, काश्मीर ओबर्सवर की रिर्पोटिंग में निरंतर आतंक और अलगावादियों को ऐसे प्रस्तुत किया जाता था और अभी भी किया जाता है जैसे कि काश्मीर में समस्या सरकार द्वारा पैदा की गई है। विगत कुछ सालों से इन मिडिया समूहों के अर्थिक स्त्रोतों की जांच हुई है और सुत्रों से ये जानकारियां निरंतर मिलती रही है कि काश्मीर में संलग्न कई मीडिया समूहों में अरब देशों में कार्यरत कम्पंनियों से फंडिंग आई है। अब ये सोचने वाली बात है कि अरब देशों में कार्यरत कंपनियों का काश्मीर मीडिया से क्या लेना देना!
साउथ काश्मीर से आ रही रिर्पोट ये दर्शाती है कि मीडिया में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा
बुरहानवानी के खात्मे के बाद काश्मीर में जो माहौल ​बिगड़ा उसमें सीधे तौर पर वहां की मीडिया में कार्यरत कुछ ऐसे तत्व जिम्मेदार है जो कि सच को ​छिपा कर झूठ परोस रहे थे, जैसे कि बुरहावानी ​के जनाने को इस तरह से मीडिया ने प्रचारित किया जैसे वह कोई मसीहा रहा हो, ठीक इसी तरह अभी आतंकी सब्जर भट की मौत के बाद उसके जनाने को कवर करने के तरिके ये यकीन दिलाते है कि काश्मीर में सक्रिय मीडिया में पाकिस्तान के आईएसआई के ऐजेंट काम कर रहे है और पुरी प्लान के तहत काश्मीर में भय और आतंक का माहौल बनाए रखने का काम कर रहे है।
 
साउथ काश्मीर से आ रही रिर्पोट ये दर्शाती है कि मीडिया में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा, पत्थरबाजों पर पुलिस द्वारा की गई कार्यवाहियों को मानव अधिकारों से जोड़ जाना, पत्थरबाज जो कि खुद पुलिस और सेना से आमने सामने लड़ते है और मरने पर उन्हें देशभक्त कह कर महिमा मंडित करने के तरीके के बताते है कि सक्रिय मीडिया में पाकिस्तान के आईएसआई के ऐजेंट काम कर रहे।
 
मीडिया ग्रुपों में कार्यरत पत्रकारों की गोपनीय जाचं और उनके आर्थिक स्त्रोतों एवं पाकिस्तान से संबंधों की गहन जांच में निश्चय कि कई महत्वपूर्ण तथ्य खुल कर सामने आ जाएंगें कि किस प्रकार हुर्रियत और मीडिया का गढजोड़ काश्मीर में कुछ चंद पाकिस्तान के दुम्छल्ले लोग पूरे काश्मीर को अतंक और अलगावाद के नाम पर बदनाम कर रहे है।

RELATED ARTICLES
JKN Twitter