मूसा का मिशन

05 Jun 2017 17:52:04

अवनीश राजपूत

नाम- जाकिर राशिद भट उर्फ जाकिर मूसा

काम- इस्लाम के नाम पर जिहाद की वकालत

कार्यक्षेत्र- कश्मीर घाटी


ये नाम उस 12 मोस्ट वान्टेड आतंकियों की सूची का हिस्सा है जिसे अभी हाल ही में भारतीय सेना ने जारी किया है। इस सूची में जम्मू-कश्मीर में लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर अबु दुजाना और बशीर वानी का भी नाम शामिल है। मूसा का जिक्र इसलिए हो रहा है कि वह वैचारिक रूप से हिजबुल के आतंकियों से अलग सोच रखता है, विचारों में मतभेद के चलते अभी हाल ही में हिजबुल से अलग हो गया था। मूसा कश्मीर की आजादी का नहीं बल्कि इस्लाम के नाम पर जिहाद की वकालत करता है। यह खुलासा अभी हाल ही में एक वीडियो सामने आने के बाद हुआ, जिसमें मूसा ये धमकी देता नजर आया था कि अगर अलगाववादियों ने कश्मीर में शरिया कानून लागू करने में अड़चन पैदा की तो उनका सिर कलम कर दिया जाएगा।

क्या है पूरा मामला-

जम्मू-कश्मीर में लश्करे-तैयबा के कमांडर अबु दुजाना और बशीर वानी समेत कई मोस्ट वांटेड आतंकी सक्रिय हैं। भारतीय सेना ने इन आतंकियों की सूची जारी की है। इसमें हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर्स रियाज नैकू, मोहम्मद यासीन इट्टू, अल्ताफ डार और लश्कर का डिस्ट्रिक्ट कमांडर जुनैद मट्टू का भी नाम है। सेना की यह सूची कुछ दिनों पहले घाटी में हिजबुल कमांडर सब्जार अहमद भट के एक एनकाउंटर में मारे जाने के बाद सामने आई है। इस इस सूची में हिजबुल के रियाज नैकू उर्फ जुबेर और जाकिर राशिद भट उर्फ जाकिर मूसा का भी नाम है। सब्जार के मारे जाने के बाद नैकू को हिजबुल का नया कमांडर बताया जा रहा है। सब्जार ने पिछले साल 8 जुलाई को बुरहान वानी के मारे जाने के बाद कमान संभाली थी। इस बीच नैकू और मूसा के बीच मतभेद की खबरें सामने आने लगी। मूसा को नैकू के काम करने के तरीके से ऐतराज था, सूत्रों की मानें तो विचारों में मतभेद के चलते मूसा इस महीने की शुरुआत में हिजबुल से अलग हो गया था। हिजबुल से अलग होने के बाद अब मूसा एक नये मिशन में लग गया है। 'मूसा का मिशन' कितना सफल होता है यह तो आने वाला वक्त बताएगा, लेकिन भारतीय सेना की सक्रियता से स्पष्ट हो चला है कि 'मिशन मूसा' अधिक दिनों का मेहमान नहीं है।

(जेकेनाऊ के लिए अवनीश राजपूत की रिपोर्ट)

RELATED ARTICLES
JKN Twitter