‘पैगम्बर के शांतिदूत’ जाकिर मूसा का भारतीय मुसलमानों के नाम पैगाम, ‘गज्‍वा-ए-हिंद का सपना करो साकार नहीं तो हो जाओगे बर्बाद’

06 Jun 2017 14:48:20

अवनीश राजपूत


ये सोच है उस शख्स की.. जो इस्लाम के नाम पर जिहाद की वकालत और आजादी का सपना दिखाकर युवाओं को कर रहा है दिग्भ्रमित.. बावजूद इसके भारत की तथाकथित सेक्यूलर कौम और‘अभिव्यक्ति की आजादी का आखेट’ खेलने वाली मीडिया इसे हीरो बनाने में जुटी है। बुरहान वानी और सब्जार अहमद भट की मौत पर मातम मनाने वालों इस्लाम के इस नये आका की  आडियो को सुनों उसके बाद भी आखों की पट्टी न खुले तो चुल्लू भर पानी में डूब मरो ...

(आडियो का लिंक)

 

ये आडियो है जाकिर राशिद भट यानि जाकिर मूसा की। इस ऑडियो में मूसा ने गज्‍वा-ए-हिंद (भारत को जीतने की अंतिम लड़ाई) का हिस्‍सा नहीं बनने के लिए भारतीय मुसलमानों को जमकरकोसा है। इतना ही नहीं मूसा ने इस्लामी युद्ध 'जंग-ए-बदर' का हवाला देते हुए यह भी कहा कि वे लोग 313 थे और दुनिया पर राज किया। अब हम करोड़ों हैं लेकिन गुलाम हैं। आपको बतादें किहिजबुल मुजाहिदीन से निष्‍कासित किए जाने के बाद जाकिर मूसा की यह पहली ऑडियो क्लिप है।

जानिये क्या कहा है जाकिर मूसा ने-
ज़ाकिर मूसा

ये दुनिया के सबसे रीढ़विहीन मुसलमान हैं। उनको खुद को मुसलमान कहने पर शर्म आनी चाहिए।हमारी बहनों के साथ बदसलूकी हो रही है और ये मुस्लिम चिल्‍ला रहे हैं-इस्‍लाम शांति का प्रतीक है।ये (भारतीय मुसलमान) सबसे 'बेगैरत कौम' है जो अन्‍याय और अत्‍याचार के खिलाफ आवाज नहीं उठा सकती। हमारे पैगंबर और उनके अनुयायियों ने क्‍या यही हमको सिखाया है? उन्‍होंने अपनी बहनों की रक्षा के लिए युद्ध में अपना खून बहाया है और कुर्बानियां दी हैं। आपलोगों के पास अब भी खड़े होने और हमारे साथ आने का समय है। आगे बढ़ो नहीं तो बहुत देर हो जाएगी।

(जेकेनाऊ के लिए अवनीश राजपूत की रिपोर्ट)

JKN Twitter