गिलगित -बाल्टिस्तान में गूंजे पाक सरकार के खिलाफ नारे

12 Jan 2018 15:15:21


 आशुतोष मिश्रा

 

पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले जम्मू कश्मीर में पाकिस्तानी प्रशासन के खिलाफ दिनों दिन लोगों का गुस्सा लागतार  बढता जा रहा है। ये वो हिस्सा है जो भारत के जम्मू कश्मीर राज्य का है और 1947 में पाकिस्तान ने अवैध रूप से कब्जा कर लिया था।

 

अब एक बार फिर से विधानसभा में विपक्ष के नेता चौधरी यासीन ने कहा है कि वर्तमान सरकार हर विभाग में विफल रही है। उन्होंने कहा कि संपत्ति कर लगाने के लिए सरकार ने आम जनता पर ड्रोन से हमला तक कर दिया है। उन्होंने कहा कि वे संपत्ति कर को गुन्डा  कर की तरह लेना चाहते है।  उन्होंने प्रधानमंत्री और मंत्रियों की तनख्वाह को जहां  300 प्रतिशत से अधिक बढ़ा दिया है। वही दूसरी तरफ उनकी सरकार के 12 मंत्री का खर्च हमारे पिछली सरकार के 24 मंत्रियों के तुलना में चार गुना अधिक है। उन्होंने कहा कि हम जनता के पैसे पर इस्लामाबाद के इशारे पर चलने वाली सरकार को विलासिता का आनंद लेने की अनुमति नहीं देंगे।  

 

अभी वर्ष के प्रारंभ में ही जल के अंधाधुध दोहन और पर्यावरण के नुक्सान को लेकर पाकिस्तान और चीन के खिलाफ एक बाद आन्दोलन पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले जम्मू कश्मीर में हुआ है। इससे कुछ महीने पहले 2017 में ही पाकिस्‍तान प्रशासन द्वारा जबरदस्ती लागू की गई टैक्स व्‍यवस्‍था के खिलाफ पाक अधिक्रांत  जम्मू कश्‍मीर (मीरपुर- मुजफाराबाद और गिलगित बाल्‍टिस्‍तान) के समूचे क्षेत्र में पाकिस्तान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे थे।  जिसमे इस क्षेत्र के लोगों ने कहा कि जब पाकिस्‍तान के सुप्रीम कोर्ट ने इस क्षेत्र को विवादित इलाका घोषित कर दिया है, तो इस्‍लामाबाद को टैक्‍स लागू करने का कोई अधिकार नहीं है। इसलिए पाकिस्‍तानी राजनीतिज्ञों के शाही लाइफस्टाइल व आरामतलबी के लिए वे टैक्‍स नहीं देंगे।

 

जम्मू-कश्मीर के अपने कब्जे वाले इलाके गिलगित -बाल्टिस्तान को पाकिस्तान भले ही पांचवां प्रांत घोषित करने कका प्रयास कर रहा है। लेकिन इसके विरोध में वहां के लोगों ने आन्दोलन शुरु कर दिया है । इस पूरे इलाके में पाकिस्तान विरोधी प्रदर्शन आज कल बहुत तेज हुए हैं। पाकिस्तान में अभी चार प्रांत-बलूचिस्तान, खैबर पख्तूनख्वा, पंजाब और सिंध हैं।

 

JKN Twitter