आतंक के रास्ते पर निकले दो भाइयों ने सेना के आगे किया आत्मसमर्पण

03 Jan 2018 13:19:20

 


आशुतोष मिश्रा

एक बार फिर से दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के कंगन क्षेत्र में दो भाईयों ने आतंक का रास्ता छोड़कर सेना के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। ये दोनों भाई कुछ दिन पहले अचानक गायब हो गए थे। उसके बाद इन्हेांने हथगोले के साथ अपनी वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड की, जिससे यह पता चलता था कि ये आतंकी बनने के रास्ते पर चल पड़े हैं।

आत्मसमर्पण करने वाले दोनों युवकों में सुहैल अहमद डार और आरिफ अहमद डार पुत्रगण बशीर अहमद डार शामिल हैं। ये दोनों भाई शुक्रवार को स्थानीय मस्जिद में नमाज अता करने के बाद अचानक गायब हो गए थे। बाद में परिजनों ने दोनों को फेसबुक पर देखा तो उनसे वापस लौटने की अपील की गई। आखिरकार मंगलवार को दोनों युवक आतंक की राह छोड़कर सेना की 55 आरआर कैम्प पहुंचे और सेना के अधिकारियों के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। दोनों ने सेना को हथगोले भी सौंप दिए हैं। वहीं सेना ने दोनों को हर तरह की सहायता देने का भरोसा दिया है, ताकि वे दोबारा से नेक राह पर चल सकें।

राज्य के पुलिस प्रमुख एसपी वैद्य ने कहा, 'बीते साल हमने 215 आतंकियों को मार गिराया और साथ ही हम 75 युवाओं को वापस लाने में कामयाब रहे, जो या तो आतंक के साथ जुड़ चुके थे या फिर जुड़ने वाले थे।  वैद्य ने बताया कि इन्हें छोड़कर, सात युवा ऐसे थे जो अपने परिवारों द्वारा हमारे प्रति समर्थन को देखकर हथियार त्यागकर वापस आ गए। उन्होंने यह भी कहा कि राज्य पुलिस ने सार्वजनिक सुरक्षा अधिनियम के तहत 34 लोगों के खिलाफ नशीले पदार्थों के दुरुपयोग का मामला दर्ज कर एक और बड़ी उपलब्धि हासिल की है।

 

JKN Twitter