रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण का पाकिस्तान को चेतावनी 

13 Feb 2018 14:47:11

 


आशुतोष मिश्रा

 

केंद्रीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने जम्मू कश्मीर में सेना के ठिकानों पर बढ़े आतंकी हमलों के बीच सोमवार शाम को सुंजवान आर्मी कैंप पहुंचीं। उन्होंने इस कैंप का हवाई निरीक्षण किया। यहां से वह आर्मी हॉस्पिटल में भी गई, जहां वह इस हमले में घायल हुए सैनिकों से मिलीं। उन्होंने मीडिया को भी संबोधित किया।

सुंजवान में सेना का ऑपरेशन खत्म होने के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में रक्षा मंत्री ने बताया कि सुंजवान में हमला जैश-ए- मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर ने करवाया है। रक्षामंत्री ने कहा कि भारत,पाकिस्तान को बार-बार सबूत देता है, लेकिन उससे पाकिस्तान पर कोई फर्क नहीं पड़ता। इसलिए अब आने वाले दिनों में भारत उनको उनकी ही भाषा में जवाब देगा और पड़ोसी देश को इसकी बड़ी कीमत चुकानी होगी।

उन्होंने हमले के बारे में बात करते हुए कहा कि आतंकी सेना की वर्दी में घुसे थे। वे सेना के परिवार के ठिकानों पर भी हमले की कोशिश कर रहे थे। रक्षामंत्री ने कहा कि हमले में हुई मुठभेड़ के बाद तीन हमलावर मारे गए हैं। जबकि इनकी संख्या चार बताई जा रही है। शुरूआती रिपोर्ट्स में चार आतंकियों के होने की बात सामने आ रही थी, लेकिन ऐसा भी हो सकता है कि चौथा आतंकी गाइड बनकर आया हो और कैंप के अंदर न गया हो। अभी भी कैंप की सभी 36 बैरकों में जांच अभियान जारी है। उन्होंने कहा कि आतंकियों को स्थानीय तौर पर मदद उपलब्ध करायी गई थी।

रक्षा मंत्री ने कहा, 'खुफिया जानकारी से पता चला है कि आतंकवादियों को सीमावर्ती इलाकों से नियंत्रित किया जाता है। एनआईए की जांच में पाया गया है कि पाकिस्तान ने पीर पांजाल के दक्षिणी प्रांत तक आतंकवाद का विस्तार किया है और पाकिस्तानी सेना सीजफायर का उल्लंघन कर आतंकियों को घुसपैठ कराते करते हैं।

सुंजवान ब्रिगेड में हमले के बाद वहां रहने वाले जवानों के परिवारों को आर्मी पब्लिक स्कूल और केंद्रीय विद्यालय में ठहराया गया है। यह दोनों स्कूल सुंजवान सैन्य शिविर में ही हैं। वहां पर जवानों के परिवारों के करीब पांच हजार सदस्य ठहराए गए हैं। इसके अलावा मेस में भी कुछ परिवारों के रहने की व्यवस्था की गई है। क्योंकि सेना के जवान अभी भी इस पूरे इलाके में सघन तलाशी अभियान चला रहे हैं।

JKN Twitter