शर्मनाक : मौलवी ने मदरसे में सात वर्ष की मासूम का किया बलात्कार

14 Mar 2018 13:27:20

 


मुकेश कुमार सिंह

जम्मू कश्मीर के नगरोटा विधानसभा क्षेत्र के कटल बटाल स्थित एक मदरसे के मौलवी ने एक सात वर्षीय बच्ची का रेप किया है। जम्मू कश्मीर के मदरसों में बच्चों के साथ इस तरह की घटनाएं सामान्य है। मदरसे में मौलवी इस्लामी शिक्षा के आड़ में इस तरह के जघन्य अपराध करते है। जम्मू कश्मीर में पॉस्को कानून लागू न होने के कारण अपराधी इस तरह के जघन्य अपराध करके बच जाते है।

 

सोमवार को सुबह क्षेत्र की एक सात वर्षीय बच्ची मदरसे में पढ़ने गई। मौलवी बच्ची को अकेला पाकर उसके साथ इस जघन्य अपराध को अंजाम दिया। दर्द से कराहती बच्ची अपने घर पहुंची तो मां के पूछने पर घटना के बारे में बताया। उसके बाद परिजन बच्ची को लेकर नगरोटा पुलिस स्टेशन पहुंच मामला दर्ज कराया। पुलिस ने बच्ची का मेडिकल जांच करवाया। पुलिस के अनुसार आरोपी मौलवी नगरोटा विधानसभा क्षेत्र के कटल बटाल में स्थिति एक मदरसे में चार महीने से कुरान पढ़ा रहा था और इसकी पहचान पश्चिम बंगाल के चिताल घंटा निवासी  शहनवाज हुसैन के रूप में हुई है। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर धारा 376 के तहत मामला दर्ज कर जेल भेज दिया। आरोपी का चाचा भी नगरोटा में एक मदरसे में पढ़ाता है और वहीं इसे लेकर यहां आया था।

    

जम्मू कश्मीर में लागू नहीं पॉस्को एक्ट

केन्द्र सरकार ने नाबालिग बच्चों के साथ होने वाले यौन अपराध और छेड़छाड़ की घटनाओं से सुरक्षा प्रदान करने के लिए प्रोटेक्शन आफ चिल्ड्रेन फ्रॉम सेक्सुअल अफेंसेस एक्ट 2012 यानी लैंगिक उत्पीड़न से बच्चों के संरक्षण का अधिनियम 2012 बनाया है। इस कानून में बच्चों को सेक्सुअल हैरेसमेंट, सेक्सुअल असॉल्ट और पोर्नोग्राफी जैसे गंभीर अपराधों से सुरक्षा प्रदान की गई है। पूरे देश में यह कानून समान रूप से लागू है और यह जघन्य अपराधों से नाबालिग बच्चों को सुरक्षा प्रदान कर रहा है परन्तु जम्मू कश्मीर में यह कानून लागू है। जिसके परिणामस्वरूप जम्मू कश्मीर में बच्चों पर हो रहे अपराध पर रोक नहीं लग पा रही है।  

 

JKN Twitter