भारतीय सेना में है दम

06 Mar 2018 12:26:19

 




 

आशुतोष मिश्रा

एक बार फिर से पूरी दुनिया ने भारतीय सैन्य शक्ति का लोहा माना है। पूरी दुनिया के देशों की सेनाओं का अध्यन करने के बाद ग्लोबल फायरपावर सूची 2017 में दुनिया की सबसे ताकतवर शीर्ष पांच सेनाओं में भारतीय सेना भी शामिल हो चुकी है। इस  सूची में शामिल 133 देशों में भारत चौथे स्थान पर है। भारत से आगे केवल अमेरिका, रूस और चीन हैं। इस सूची को तैयार करने के लिए पचास से अधिक मानकों को शामिल किया गया था। इनमें सैन्य संसाधन, प्राकृतिक संसाधन, उद्योग और भौगोलिक स्थिति और उपलब्ध मानव संसाधन प्रमुख हैं।

 

सैन्य ताकत के लिहाज से 133 देशों की इस सूची में पहले 10 स्थानों पर ब्रिटेन, फ्रांस, जापान, तुर्की और जर्मनी भी शामिल हैं। भारत के पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान को इस सूची में 13वें स्थान पर जगह मिली है। लेकिन भारत के लिए चिंता की ये बात है की चीन जिस तेजी से अपनी सैन्य क्षमताओं को बढ़ा रहा रहा है उससे कुछ सालों में रूस को पीछे छोड़कर दूसरे स्थान पर पहुँच जाएगा।

 

भारत बनाम पाकिस्तान

रक्षा के सभी क्षेत्रों में भारत अपने पश्चिमी पड़ोसी से मीलों आगे है। केवल कुछ मामलों में ही पाकिस्तान को बढ़त हासिल हैं। इनमें लड़ाकू हेलीकॉप्टरों की संख्या, स्वचालित आर्टिलरी और जलमार्ग विस्तार।

 

भारत बनाम चीन

भारतीय सशस्त्र बलों में चीन के मुकाबले सैनिकों की संख्या ज्यादा है। चीन के मुकाबले भारत के विमानवाहक पोत भी अधिक हैं, लेकिन रक्षा बजट के लिहाज से भारत चीन से बहुत पीछे है। चीन का रक्षा खर्च भारत से तीन गुना अधिक है। इसके अलावा लड़ाकू विमानों, हैलीकॉप्टरों, पनडुब्बियों के लिहाज से भी चीन कहीं आगे है।

 

भारत और चीन इस सूचकांक में अपने सर्वाधिक सैनिकों की संख्या के दम पर हैं। कुल सैनिकों की संख्या के मामले में भारत चीन को पीछे छोड़ता है। भारत के पास कुल 42,07,250 सैनिक हैं जबकि चीन के पास 37,12,500 ही हैं। हालांकि सक्रिय सैनिकों की संख्या के मामले में चीन आगे है। उसके पास 22।60 लाख ऐसे सैनिक हैं जबकि भारत का यह आंकड़ा 13,62,500 ठहरता है। भारत के पास रिजर्व सैनिक 28,44,750 हैं, वहीं चीन के पास सिर्फ 14,52,500 ही हैं।

 

 

 

JKN Twitter