अमेरिकी ड्रोन हमले में पाकिस्तान तालिबान सरगना के बेटे सहित 21 आतंकी ढेर

09 Mar 2018 16:02:28

 


आशुतोष मिश्रा

अफगानिस्तान के पूर्वी कुनार प्रांत में बुधवार को अमेरिकी ड्रोन हमले में तहरीक-ए-तालिबान (टीटीपी) के 20 आतंकी और उनके प्रशिक्षक मारे गए। पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट्स ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि प्रतिबंधित टीटीपी के आतंकी पाकिस्तान सीमा से सटे कुनार के पर्वतीय शल्टन क्षेत्र में ट्रेनिंग शिविर चला रहे थे। अमेरिकी ड्रोन ने शिविर पर पांच मिसाइल दागे, जहां आतंकी नियमित प्रशिक्षण के लिए मौजूद थे। एक रिपोर्ट्स के अनुसार टीटीपी प्रमुख फैजुल्ला का बेटा अब्दुल्ला भी मरने वालों में शामिल हो सकता है। सूत्रों ने हमले को टीटीपी के लिए विनाशकारी बताया है, क्योंकि आतंकी संगठन के कई अहम सदस्य मारे गए हैं। अब्दुल्ला के अलावा टीटीपी का एक बड़ा कमांडर यासिन के भी मारे जाने की खबर है।

पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एक महीने से भी कम वक्त के भीतर अमेरिका का इस तरह का दूसरा हमला है, जिसमें तहरीक-ए-तालिबान के आतंकवादी ड्रोन के निशाने पर आए हैं। आतंकवाद को फंड (वित्तीय सहायता) उपलब्ध कराने के मामले में पाकिस्तान को घेरने की भारत की कोशिशों को पिछले कुछ समय में बड़ी सफलता मिली है। कुछ दिन पहले ही फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) ने पाकिस्तान को आतंकवाद का वित्तपोषण करने के मामले में निगरानी करने के लिए उसे ‘ग्रे लिस्ट’ में डालने का फैसला किया है। इसके साथ ही अब पाक से होने वाली हर एक अंतरराष्ट्रीय वित्तीय लेनदेन की निगरानी की जाएगी। हालांकि, यह निगरानी औपचारिक रूप से जून से लागू होगी।

हाल में अमेरिका की ओर से पाकिस्तान को दी जाने वाली 7 हजार करोड़ की सैन्य मदद रोक दी गई है। आतंकवाद पर अंतरराष्ट्रीय दबाव झेल रहे पाक पर हाफिज पर कड़ी कार्रवाई करने का दबाव है। जमात उद दावा (JUD) लश्कर-ए-तैयबा का साथी समूह है जो मुंबई में 2008 में हुए आतंकवादी हमले के लिए जिम्मेदार है। उस हमले में 166 लोग मारे गए थे। अमेरिका ने जून 2014 में विदेशी आतंकवादी संगठन घोषित किया था।

JKN Twitter