आतंकियों का हमदर्द है पाकिस्तान: पाक मीडिया

10 Apr 2018 13:01:24


एक ओर पाकिस्‍तान पूरी दुनिया में खुद को पाक साफ बता रहा है वही दूसरी ओर पाक मीडिया उसे बेनकाब कर रहा है। पाकिस्‍तान के समाचार पत्र ‘द एक्‍सप्रेस ट्रिब्‍यून’ ने अपने संपादकीय में देश के नीति-नियंताओं को चेतावनी भरे लहजे में कहा है कि अगर कट्टरपंथ और आतंकी गतिविधियों में लिप्त संगठनों के खिलाफ सहानुभूति वाला दृष्टिकोण नहीं बदला गया तो पाकिस्तान आतंकवाद के नए रूप को जन्‍म दे सकता है।

पाकिस्तानी अखबार ‘द एक्‍सप्रेस ट्रिब्‍यून’ ने आगे लिखा कि ‘दो विरोधी मूल्यों को धारण करने या कट्टरपंथी गुटों के लिए गोलमोल रवैया अपनाने से पाकिस्तान में आंतक को बढ़ावा मिल रहा है। कई बार आतंकी घटना को लेकर पाकिस्तान की सहानुभूति लोगों के सामने आ जाती है जिसकी वजह से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् (UNSC) को हम पर निशाना साधने का मौका मिल जाता है और दुनिया इस खबर को चटकारे लेकर पढ़ती है। दरअसल पाकिस्तान लोगों को ऐसा करने का मौका देती है।’

हाल ही में UNSC द्वारा जारी 139 लोगों और उनसे जुड़ी संस्थाओं को आतंकी करार देने को लेकर अखबार ने लिखा है कि ‘लिस्टेड लोगों में से कुछ लोगों या संस्थाओं को लेकर भले ही पाकिस्तान को आपत्ति हो लेकिन अधिकतम केस में तथ्य भी बताते हैं कि आतंकी गतिविधियों में इजाफा हुआ है।’

अखबार में भारत के लिहाज से जो सबसे अहम बात कही गई है उसमें हाफिज सईद का नाम ओसामा बिन लादेन और अयमान अल जवाहिरी के साथ लिखा गया है। संपादकीय में कहा गया है कि ओसामा बिन लादेन के उत्‍तराधिकारी अयमान अल जाहिरी के बारे में कहा जाता है कि वह पाकिस्‍तान और अफगानिस्‍तान के बीच रहता है। इन दिनों सबसे ज्‍यादा सुर्खियों में छाया हुआ शख्‍स है जिसका नाम हाफिज सईद है, वह भी पाकिस्तान में ही है। उसे हर तरह की आजादी है, जो एक सामान्‍य नागरिक को मिलती है। संपादकीय में यह भी लिखा गया है कि हाफिज सईद का नाम आतंकी गतिविधियों के चलते इंटरपोल की वांटेड लिस्‍ट में भी शामिल है।

 

 

 

JKN Twitter