पत्थरबाजों के फोन खंगाल रही है सुरक्षा एजेंसिया

28 Apr 2018 14:08:43

 


आशुतोष मिश्रा

देश की सुरक्षा एजेंसियों ने सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी के आरोपी छात्रों के मोबाइल फोन को भी खंगालना शुरु कर दिया है जिससे छात्रों को हिंसा व राष्ट्रविरोधी तत्वों से दूर रखने की रणनीति बनाया जा सके। सुरक्षा एजेंसियों ने लगभग 100 मोबाइल फोन जब्त किए है। फारेंसिंक जांच के साथ-साथ राज्य पुलिस का साइबर सेल उनमें जमा डाटा के आकलन में जुटा हुआ है।

एसएसपी बारामुला इम्तियाज हुसैन मीर ने पत्थरबाजी में लिप्त छात्रों के मोबाइल फोन की फारेंसिंक जांच कराने की पुष्टि करते हुए बताया कि यह बहुत जरुरी है। उन्होंने कहा कि गत सोमवार को बारामुला में हिंसक झड़पों के दौरान 70 से ज्यादा छात्र-छात्राओं को हमने पकड़ा है। इन सभी के पास स्मार्ट फोन थे और सभी किसी न किसी तरीके से शरारती तत्वों द्वारा संचालित फेसबुक, ट्विटर, बिगो, वुईचैट, वाटसएप समूहों के साथ जुड़े हुए थे। इसलिए यह पता करना जरुरी है कि आखिर छात्र किस तरह की सामग्री से प्रभावित होकर हिंसा के लिए उतर रहे हैं।

इस दौरान शरिया या शहादत, अंसारुल गजवा हिंद, लश्कर, पुलवामा टाइगर, अल जिहाद जैसे नामों के कई फेसबुक पेज,वाट्सएप समूह भी देखने को मिले हैं। कई समूहों के संचालक नाबालिग छात्र हैं जो सोशल मीडिया पर मिलने वाली भड़काऊ सामग्री को अपने ग्रुप में पोस्ट कर वायरल करते हैं। इसके अलावा छात्रों को अफवाहों और दुष्प्रचार से गुमराह करने के लिए सोशल मीडिया पर सक्रिय तत्वों की निशानदेही कर उनके खिलाफ कार्रवाई की तैयारी कर रहे है। सोशल मीडिया और वाट्सएप पर सक्रिय कई तत्व विदेशों में बैठे हैं।

छात्रों को हिंसा से दूर रखने की कार्ययोजना में शामिल एक अधिकारी ने अपना नाम न छापने की शर्त पर बताया कि हम प्रोफेशनल बाल एवं छात्र मनोवैज्ञानिकों के अलावा कश्मीर विश्वविद्यालय में रिसर्च कर रहे समाज विज्ञानियों और मनोवैज्ञानिकों के साथ भी लगातार इस विषय पर काम कर रहे हैं।

JKN Twitter