19 मई को कश्मीर घाटी जाएंगे प्रधानमंत्री

16 May 2018 15:49:05

 


आशुतोष मिश्रा 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 19 मई  को जम्मू कश्मीर जा रहे हैं। प्रधानमंत्री के इस दौरे से पहले ही अलगाववादी संगठनों ने घाटी का माहौल खराब करने के लिए 19 मई को लोगों से लालचौक का रुख करने का आह्वान किया है और साथ ही 21 मई को घाटी में हड़ताल का भी आह्वान किया है। अलगाववादी संगठनों के अनुसार लोग उनके आह्वान पर सरकार का विरोध जताने के लिए लालचौक पर प्रदर्शन करेंगे। 21 को ही मीरवाइज मौलवी फारूक व हुरिंयत कांफ्रेंस के वरिष्ठ नेता प्रोफेसर अब्दुल गनी लोन के मौत के दिन पर हड़ताल का भी आह्वान किया है। ये सारे संगठन उस दिन श्रीनगर के ईदगाह इलाके में रैली भी करेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 19 मई को जम्मू कश्मीर दौरे और रमजान को देखते हुए राज्य में संदिग्ध आतंकी गतिविधियों के कारण इंटरनेशनल बॉर्डर पर हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। गुप्तचर संस्था के सूत्रों की माने तो सुरक्षाबलों को जानकारी मिली है कि रमजान महीने के 17वें दिन (जंग-ए-बदर) के दिन आतंकी किसी बड़े हमले की साजिश बना रहे है। सुरक्षाबल भी इनसे निपटने के लिए तैयार है और सुरक्षा के इंतजाम और सख्त कर दिया गया है।

13 मई को मुंबई से महाराष्ट्र एटीएस और पश्चिम बंगाल की स्पेशल टास्क फोर्स ने एक संयुक्त अभियान में एक संदिग्ध पाकिस्तानी को गिरफ्तार किया गया था। सूत्रों के मुताबिक मुंबई के जूहू जैसे पॉश इलाके से गिरफ्तार संदिग्ध आतंकी के पाकिस्तान में ट्रेनिंग लेने की जानकारी मिलने के बाद अब एजेंसियां अन्य जानकारी जुटने में लगी हैं। गिरफ्तारी के बाद महाराष्ट्र के एटीएस चीफ अतुल कुलकर्णी ने बताया था कि पकड़ा गया संदिग्ध एक आत्मघाती आतंकवादी है।

साल 2017 में रमजान के महीने में जम्मू कश्मीर राज्य में हुए आतंकी हमले और हिंसा की घटनाओं में कुल 42 लोगों की मौत हुई थी। इन 42 लोगों में 27 आतंकी, 9 पुलिसकर्मी और 6 स्थानीय नागरिक शामिल थे। इसके अलावा साल 2017 में ही आतंकियों ने अमरनाथ यात्रा के दौरान दर्शनार्थियों की एक बस को भी निशाना बनाया था जिसमें 7 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि कुल 19 लोग घायल हुए थे।

JKN Twitter