जम्मू कश्मीर राज्य में बलात्कार पर मौत की सजा

19 May 2018 14:06:48

 


आशुतोष मिश्रा

जम्मू कश्मीर राज्य में नाबालिगों के साथ बलात्कार पर मौत की सजा को राज्यपाल ने मंजूरी दे दी है। इसके साथ ही अब यह कानून राज्य में लागू हो गया है। राज्यपाल एनएन वोहरा ने जम्मू कश्मीर आपराधिक कानून (संशोधन) अध्यादेश- 2018 तथा जम्मू कश्मीर बच्चों के प्रति यौन हिंसा संरक्षण अध्यादेश- 2018 को मंजूरी दे दी है।

इसके पहले राज्य सरकार ने रणबीर दंड संहिता और आपराधिक प्रक्रिया संहिता और साक्ष्य अधिनियम में संशोधन किया था। राज्यपाल ने इन आदेशों को कड़ाई से पालन करने और ऐसे सभी मामलों की लगातार निगरानी करने को कहा है।

अध्यादेश के अनुसार 16 वर्ष से कम आयु की नाबालिग से बलात्कार करने पर 20 साल तक कड़े कारावास का प्रावधान किया गया है। इसे आजीवन कारावास तक बढ़ाया जा सकता है। 12 वर्ष से कम उम्र की नाबालिग से बलात्कार पर मौत की सजा मिलेगी। 16 वर्ष से कम आयु के नाबालिग से सामूहिक बलात्कार पर आजीवन कारावास, 12 वर्ष से कम उम्र की नाबालिग से गैंग रेप पर मौत की सजा का प्रावधान किया गया है। मामले की जांच दो महीने के भीतर पूरी करनी होगी। ट्रायल छह महीने में पूरा होगा।

इसमें ऐसे अपराधों के त्वरित परीक्षण के लिए विशेष न्यायालयों की स्थापना का प्रावधान किया गया है। यह सभी शैक्षिक संस्थानों के लिए भी अनिवार्य किया गया है जिससे बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित होगी।

JKN Twitter