भारतीय सेना ने जम्मू कश्मीर से हिजबुल कमांडरो का किया सफाया

07 May 2018 15:31:40


मुकेश कुमार सिंह

भारतीय सेना ने जम्मू कश्मीर के शोपियां में रविवार को हिजबुल मुजाहिदीन के अंतिम कमांडर सद्दाम पद्दार उर्फ जायद को मार गिराया। सद्दाम के मारे जाने से जम्मू कश्मीर में हिजबुल के कमांडरों का सफाया हो गया। कल सुरक्षाबलों ने हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर सद्दाम समेत पांच आतंकियों को मार गिराया था। मुठभेड़ में मारा गया सद्दाम बुरहान वानी गैंग का आखिरी मेंबर था। 2015 में बुरहान वानी संग 11 आतंकियों की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी। इसके बाद से ही ये सभी आतंकी सेना और सुरक्षाबलों के निशाने पर थे।

गौरतलब है कि 2015 में 11 आतंकियों की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी, अब तक इनमें से 10 आतंकी मारे जा चुके है जबकि एक तारिक पंडित ने सुरक्षाबलों के सामने आत्म समर्पण कर दिया है, जो अब जेल में बंद है। मारे गए आतंकियों के नाम में सद्दाम पद्दार, बुरहान वानी, आदिल खांडे, नसीर पंडित, अफ्फाक बट, सब्जार बट, अनीस, अश्फाक डार, वसीम मल्ला और वसीम शाह शामिल है।

 

पत्थरबाज से आतंकी बना था सद्दाम

शोपियां के हेफ गांव में टंगपोरा मोहल्ले का रहने वाले सद्दाम 2015 में आतंकी बना। इसकी जानकारी लोगों को तब हुई जब सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीर में उसकी फोटो आई। पढाई को बीच में ही छोड़ने के बाद से सद्दाम पत्थरबाजी की घटनाओं में शामिल होने लगा था और बाद में आतंकियों के ओवरगाउंड वर्कर के तौर पर काम करने लगा। सद्दाम को 2014 में राष्ट्रविरोधी प्रदर्शनों के लिए गिरफ्तार भी किया गया था और बाद में उसे छोड़ दिया गया, लेकिन कुछ दिनों तक घर पर रहने के बाद एक दिन अचानक गायब हो गया। वह आतंकी बनेगा, यह न पुलिस को यकीन था और न उसके परिजनों व दोस्तों को। स्कूल छोड़ने के बाद वह अक्सर अपने पिता के साथ अपने बाग में व्यस्त रहता था या फिर अपनी भेड़ों के साथ। कुछ महीने के बाद लोगों ने सोशल मीडिया पर उसकी फोटो देखी। सद्दाम शुरूआत में आतंकी संगठन लश्कर-ए-तोएबा से जुड़ा और कुछ दिनों बाद हिजबुल मुजाहिदीन जॉइन कर लिया।

सद्दाम जम्मू कश्मीर में कई आतंकी गतिविधियों को अंजाम दिया था। वह पिछले वर्ष इरफान नामक एक सैन्यकर्मी को उसके घर से बुलाकर हत्या कर दी थी। राज्य पुलिस के एक अधिकारी के बताया कि सद्दाम दो वर्षो में करीब दो दर्जन से ज्यादा आतंकी गतिविधियों को अंजाम दिया था। उस पर सरकार ने 15 लाख का इनाम रखा था। उन्होंने कहा कि उसकी मौत से शोपियां में हिज्ब ही नहीं लश्कर भी कमजोर होगा।


JKN Twitter