सर्जिकल स्ट्राइक के नायक को जम्मू कश्मीर से आतंक को खत्म करने जिम्मा

02 Jun 2018 15:39:18


 

मुकेश कुमार सिंह

सर्जिकल स्ट्राइक के समय डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिटरी ऑपरेशन्स (डीजीएमओ) रहे लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह को जम्मू कश्मीर स्थित उत्तरी कमान का कमांडर बनाया गया है। भारतीय सेना के एलीट पैरा टूपर्स ने 29 सितंबर 2016 को पाक अधिकृत जम्मू कश्मीर में घुसकर कई आतंकियों को मारकर उनके लॉन्च पैड्स को तबाह कर दिया था। जनरल सिंह ने ही पीओजेके में की गई सर्जिकल स्ट्राइक की आधिकारिक जानकारी मीडिया से साझा की थी। वर्तमान में सेना के डिप्टी चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ (सिस्टम ऐंड ट्रेनिंग)  ले. जनरल रणबीर सिंह को ले. जनरल देवराज अंबू के स्थान पर भारतीय सेना के उत्तरी कमान नया जीओसी नियुक्त किया गया है और लेफ्टिनेंट जनरल देवराज अंबू को थल सेना का उप-प्रमुख बनाया गया है।  

 

ले. जनरल रणबीर सिंह को भारतीय सेना के सबसे तेज तर्राक अधिकारियों के तौर पर जाना जाता है जिन्हें आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन में महारत हासिल है। सेना के डिप्टी चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ (सिस्टम ऐंड ट्रेनिंग) ले. जनरल रणबीर सिंह ने ही म्यांमार और पाक अधिकृत जम्मू कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ सेना के सर्जिकल स्ट्राइक की सफल प्लानिंग की थी। ले. जनरल सिंह सर्जिकल स्ट्राइक से पहले केंद्र सरकार की उस उच्च स्तरीय बैठक का हिस्सा थे, जिसमें सर्जिकल स्ट्राइक करने का फैसला लिया गया था। इस बैठक के बाद रणबीर सिंह और सेना की उधमपुर स्थित उत्तरी कमान के नेतृत्व में सर्जिकल स्ट्राइक की प्लानिंग की थी। रणबीर सिंह ने दिल्ली के सैन्य मुख्यालय से सारी रणनीति का निर्धारण किया था, जिसके बाद दुश्मन के बारे में सबसे ज्यादा जानकारी रखने वाले जम्मू कश्मीर में तैनात सेना के दो एलीट पैरा ट्रूपर्स को एलओसी के पार आतंकियों के ट्रेनिंग कैंप पर सर्जिकल स्ट्राइक की जिम्मेदारी दी गई।

 

शुक्रवार को सेना की उत्तरी कमान में चार्ज ग्रहण करने वाले रणबीर सिंह ने शहीदों को सलाम कर अपनी नई जिम्मेदारी के निर्वहन की शुरुआत की है। गौरतलब है कि देश की सबसे संवेदनशील सीमा की सुरक्षा की जिम्मेदारी सेना के उत्तरी कमान पर है। उत्तरी कमान पाकिस्तान से लगती आईबी, एलओसी और चीन से लगती सीमा एलएसी पर तैनात है। जनरल सिंह की नियुक्ति से सेना को जम्मू कश्मीर में सैन्य ऑपरेशन के दौरान उनके अनुभवों का लाभ मिल सकेगा।  

 

पंजाब के जालंधर में पैदा हुए ले. जनरल रणबीर सिंह 1980 में सैन्य अकादमी देहरादून के लिए चुने गए। उनकी पहली पोस्टिंग भारतीय सेना के 9 डोगरा रेजीमेंट में हुई थी। जनरल सिंह देश के तीन सबसे त्वरित हमला करने वाले बलों में से एक ‘स्ट्राइक वन’ के कमांडर भी रहे है। जो सेना के शार्ट नोटिस पर कही भी कार्रवाई करने को तैयार रहता है। उन्होंने जम्मू कश्मीर में सेना के कई अहम पदों पर काम किया है। इसके अलावा संयुक्त राष्ट्र संघ शांति मिशन के तहत रणबीर सिंह अंगोला और रवांडा में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं।

   

 

 

JKN Twitter